गुटखा घोटाला: CBI ने चार लोगों को किया गिरफ्तार

  By : Shubham Srivastawa | September 6, 2018 8:19 pm

नई दिल्ली। तमिलनाडु में करोड़ों रूपये के गुटखा घोटाला मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने गुरुवार को बताया कि इस मामले में जेयम इंडस्ट्रीज के प्रमोटर्स और निदेशकों, खाद्य सुरक्षा व औषधि प्रशासन और आबकारी विभाग के अधिकारी समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। सीबीआई के एक सूत्र ने बताया कि एजेंसी ने जेयम इंडस्ट्रीज के प्रमोटर्स और निदेशकों ए.वी. माधव राव और उमा शंकर गुप्ता को गिरफ्तार किया है।

सूत्र के अनुसार एजेंसी ने खाद्य सुरक्षा और औषधि विभाग के एक निर्दिष्ट अधिकारी पी सेंथिल मुरुगन और केंद्रीय आबकारी विभाग के अधीक्षक एन.के. पांडियन को गिरफ्तार किया है। सीबीआई द्वारा यह गिरफ्तारी बेंगलुरु, मुंबई, पुड्डचेरी, तमिलनाडु के चेन्नई, तिरुवल्लूवर व तूतीकोरिन और आंध्रप्रदेश के गुंटूर में 35 जगहों पर छापा मारने के एक दिन बाद की गई है।

सीबीआई ने बुधवार को तमिलनाडु के स्वास्थ्य मंत्री सी. विजयभाष्कर और पुलिस महानिदेशक टी.के. राजेंद्रन के परिसर में छापेमारी की थी। बता दें कि गुटखा घोटाले का यह मामला 8 जुलाई 2017 को तब सामने आया, जब इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्स चोरी के शक में एक गुटखा कंपनी के मालिक के घर में छापेमारी की। गुटखा व्यापारी के ऊपर लगभग 250 करोड़ की टैक्स चोरी का आरोप था। गुटखा कंपनी के मालिक के घर, गोदाम और ऑफिस पर छापा मारा गया था। सीबीआई की छापेमारी के दौरान व्यापारी के घर से एक डायरी मिली थी। जिसमें उन लोगों के नाम थे, जिन्हें कथित तौर पर पैसे दिए गए थे। इनमें एक नाम राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विजय भास्कर का भी शामिल था।