उत्तरकाशी: भूस्खलन में फंसे डीएम व 700 कांवड़ यात्री

  By : Bhagya Sri Singh | August 10, 2018 11:48 am
uttarkashi heavy rain landslide, uttarkashi landslide,uttarkashi heavy rain,uttarkashi weather

नई दिल्ली। उत्तरकाशी में लगातार मूसलाधार बारिश की वजह से डबराणी के पास गंगोत्री हाईवे पर भूस्खलन के कारण मार्ग अवरुद्ध हो गया है। इस वजह से धराली से वापस आ रहे जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान समेत करीब 700 कांवड़ यात्री रास्ते में ही फंस गये हैं। सीमा सड़क संगठन के कार्यकर्ता मलबा हटाकर यात्रियों को सुरक्षित निकलने का प्रयास कर रहे हैं। एसडीआरएफ टीम के अथक प्रयासों के बाद आखिरकार रास्ता खोलने में कुछ सफलता मिली है। फिलहाल सारे यात्री इस समय कैंप में ही हैं।

जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल ने जानकारी देते हुए कहा कि भारी बारिश के कारण पहाड़ी से लगातार मलबा टूट-टूट कर नीचे की तरफ गिर रहा है जिस वजह से इस रास्ते पर सफ़र करना काफी जोखिम भरा साबित हो सकता है। इसी कारण ही इस हाइवे को दोबारा चालू करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सीमा सड़क संगठन के कमांडर एसएस मक्कड़ ने जानकारी दी कि अवरुद्ध मार्ग को देर रात तक आने जाने वालों के लिए चालू कर दिया जायेगा।

राहत बचाव दल की टीम ने मौके पर पहुंच कर जिलाधिकारी समेत अन्य यात्रियों को निकलकर उन्हें उत्तरकाशी पहुंचा दिया है। जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान ने जानकारी देते हुए कहा कि एसडीएम देवेंद्र सिंह नेगी को धराली में ही कैंप बना कर रहने के निर्देश दिया गया है। डीएम समेत अन्य अधिकारी फिलहाल सुक्की में चले गए हैं। कुछ कांवडिये कैंप में ही रुके हुए हैं और कुछ सुक्की वापस लौट गए हैं। बॉर्डर रोड आर्गेनाईजेशन (बीआरओ) ने टू-व्हीलर्स वाहनों के लिए सुहग तक मार्ग तैयार कर दिया है।

सुहग मार्ग से होकर लगभग चार सौ कांवडिये अपने दो पहिया वाहनों से निकल लिए हैं जबकि बड़े वाहनों के कारण 300 से अधिक कांवडियें व यात्री अभी भी रास्ते में ही फंसे हुए हैं। पहाड़ों से मलबा लगातार जोशीमठ मलारी मार्ग की तरफ आ रहा है। इस कारण वाहनों की आवाजाही ठप्प हो गई है। सेना के वाहन तक मौके पर नहीं पहुंच पा रहे हैं।