पेंशन की लालच में 5 महीने तक घर में रखा मां का शव

  By : Bankatesh Kumar | May 23, 2018
uttar pradesh, varanasi, bhelupur, durgakunda, maravati devwanshi, morgue, Pensions, उत्तर प्रदेश, वाराणसी,भेलूपुर, दुर्गाकुंड,मरावती देववंशी, शव, पेंशन

नई दिल्ली। मां और बेटे के रिश्ते को शर्मसार करने वाली एक घटना उत्तर प्रदेश के वाराणसी से सामने आई है। यहां पर मां की मृत्यु के बाद भी बेटों ने शव को घर में पांच महीनों तक छुपाकर रखा। शव खराब न हो इसके लिए बेटों ने लास पर रासायनिक लेप लगा दिया था। बेटों ने मां के शव को महज पेंशन पाने के लिए घर में छुपाकर रखा था।

जानकारी के मुताबिक मामला भेलूपुर थाना क्षेत्र के दुर्गाकुंड स्थित आवास विकास कॉलोनी का है। कॉलोनी में मरावती देववंशी नाम की वृद्ध महिला अपने पांच बेटों के साथ रहती थी। महिला के  पति दयाप्रसाद कस्टम में सुपरिटेंडेंट पद सेवानिवृत थे। उनकी बहुत पहले ही मौत हो गई थी। ऐसे में देववंशी को हर महीने 40 हजार रुपए पेंशन के रूप में मिलते थे। यही वजह है कि मां की मौत के बाद भी पैसों के लालच में बेटों ने शव का दाह संस्कार नहीं किया।

स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक मरावती देववंशी की मौत 13 जनवरी को ही हो गयी थी, पर बेटों ने पड़ोसियों से यह बात छुपाकर रखी। एक पड़ोसी ने बताया कि जनवरी में मां की मौत के बाद भी बेटों ने उसे जिंदा बताया था। तभी से मां का अंगूठा लगाकर बेटे लगातार पेंशन ले रहे थे।

सूत्रों के अनुसार पड़ोसियों को बहुत पहले से शक था। क्योंकि वे लोग मरावती देववंशी को बहुत दिनों से कॉलोनी में नहीं देख रहे थे। ऐसे में जब देववंशी के घर से बदबू आने लगी तो पड़ोसियों का शक और गहरा गया।  इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने लास को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। फिलहाल पुलिस महिला के बेटों से पूछताछ कर रही है। हालांकि अभी भी पांचों बेटे मां को जिंदा बता रहे हैं। सच्चाई क्या है यह तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मालूम पड़ेगा।