बेटी ने दी भय्यू जी महाराज को मुखाग्नि

  By : Bhagya Sri Singh | June 13, 2018

नई दिल्ली। आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज का अंतिम संस्कार भमोरी स्थित मुक्तिधाम में हुआ। उनकी बेटी कुहू ने उन्हें मुखाग्नि दी। इससे पहले उनके पार्थिव शरीर को दर्शन हेतु सूर्योदय आश्रम में रखा गया था। जानकारी के मुताबिक, भय्यू जी महाराज ने मंगलवार को पारिवारिक कलह के चलते अपने इंदौर की सिल्वर स्प्रिंग कॉलोनी स्थित आवास में खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली थी। तत्काल उन्हें बॉम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

आध्यात्मिक गुरु स्वर्गीय भय्यूजी महाराज को केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले, मंत्री पंकजा मुंडे, विधायक रमेश मेंदोला, कांग्रेस नेता कृपाशंकर शुक्ल, इंदौर के पूर्व महापौर कृष्ण मुरारी मोघे, महेन्द्र हार्डिया, पूर्व विधायक तुलसी सिलावट, अलवर विधायक नरेंद्र शर्मा, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के ओएसडी श्रीकांत, मध्य प्रदेश सरकार में दर्जा प्राप्त मंत्री कम्प्यूटर बाबा, कांग्रेस नेता शोभा ओझा, इंदौर की महापौर मालिनी गौड़, कलेक्टर निशांत वरवड़े और डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने श्रदांजलि अर्पित की।

भय्यू जी महाराज का पार्थिव शव सुबह 10 बजे से उनके इंदौर स्थित पुराने आवास पर रखा गया। शव को दोपहर 12. 30 के आसपास अंतिम दर्शन हेतु रखा गया। दोपहर 1 बजे इंदौर के सायाजी मुक्ति धाम पर भय्यू जी महाराज का अंतिम संस्कार हुआ।

बता दें कि पुलिस ने भय्यू जी महाराज के शव के पास से एक सुसाइड नोट भी बरामद किया है। अपने अंतिम पत्र में भय्यू जी महाराज ने कहा है कि कोई मेरे परिवार की जिम्मेदारी ले ले। मैं जा रहा हूं, बहुत तनाव के कारन ऊब चुका हूं।

पुलिस भय्यू जी महाराज की मौत की गहन जांच-पड़ताल कर रही है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक़, उनकी पहली पत्नी की बेटी और वर्तमान पत्नी के बीच संपत्ति को लेकर तनाव जारी है, जिस कारण घर का माहौल कलहपूर्ण हो गया था गौरतलब हो कि भय्यू जी महाराज ने अपनी पहले पत्नी की मौत के बाद साल 2017 में दूसरी शादी की थी। उनकी दूसरी पत्नी डॉक्टर है।