एशियाड पुरुष हॉकी: भारत ने पाकिस्तान को 2 -1 हराया

  By : Shubham Srivastawa | September 1, 2018 9:11 pm
asian-games-2018-india-beat-pakistan-and-clinch-bronze-meda

जकार्ता। 18वें एशियाई खेलों में भारत ने पाकिस्तान को 2 -1 से मात देकर ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा जमाया है। इस तरह एशियाई खेलों में भारत अबतक 69 पदक जिसमें 15 गोल्ड, 24 सिल्वर और 30 ब्रॉन्ज पर कब्ज़ा जमाते हुए 8वें पायदान पर काबिज है। तीसरे स्थान पर कब्जा जमाने के लिए खेले गये पुरुष हॉकी टीम मुकाबले की बात करें, तो आकाशदीप सिह और हरमनप्रीत सिंह के शानदार गोलों के बदौलत भारत ने पाकिस्तान को 2-1 से हराया है। चार साल पहले स्वर्ण जीतने वाली भारतीय टीम ने एशियाई खेलों में तीसरी बार कांस्य पदक जीता है।

दरअसल, सेमीफाइनल में भारत को मलेशिया से और पाकिस्तान को जापान से हार का सामना करना पड़ा था। इस हार के कारण दोनों टीमों कांस्य पदक के मुकाबले में एक-दूसरे के खिलाफ उतरना पड़ा, जहां भारत ने बाजी मारी। भारतीय टीम के लिए आकाशदीप सिंह ने तीसरे और हरमनप्रीत ने 50वें मिनट में गोल दागे। वहीं मोहम्म्द अतीक ने 52वें मिनट में पाकिस्तान के लिए एकमात्र गोल किया।

मैच शुरू होने के तीसरे ही मिनट में आकाशदीप ने पाकिस्तान के गोल पोस्ट पर हमला बोलते हुए मैच का पहला गोल कर भारत को 1-0 की बढ़त दिला दी। इसके बाद पाकिस्तान ने मैच में बराबरी की कुछ कोशिशें जरूर कीं, लेकिन उसे कामयाबी नहीं मिली। तीसरे क्वार्टर में 34वें मिनट में एजाज अहमद के पास गोल कर पाकिस्तान को बराबरी पर लाने का मौका था, लेकिन वह इस मौके को गंवा बैठे। पाकिस्तान ने 39वें मिनट में मिले पेनाल्टी कॉर्नर भी जाया कर दिया।

मैच के चौथे और आखिरी क्वार्टर में दोनों टीमें आक्रामक मूड में नजर आई। भारत को 50वें मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर मिला जिसे हरमनप्रीत ने गोल में बदलकर भारत की बढ़त को 2-0 कर दिया।  हालांकि इसके दो मिनट बाद ही पाकिस्तान के अतीक ने भारतीय रक्षापंक्ति को चकमा देते हुए गोल कर दिया। अतीक के इस गोल से पाकिस्तान ने और ज्यादा मौके बनाने शुरू कर दिए।

लेकिन भारतीय रक्षापंक्ति ने इसके बाद और कोई गोल नहीं होने दिया और 2-1 की जीत के साथ तीसरी बार एशियाई खेलों का कांस्य पदक अपने नाम कर लिया।  इसके बाद, जापान ने पेनाल्टी शूटआउट तक गए एक रोमांचक फाइनल में मेलेशिया को 3-1(6-6) से हराते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा किया। मलेशिया ने मैच की दमदार शुरुआत की और एक समय 5-2 की बढ़त बान ली लेकिन जापान ने शानदार वापसी करते हुए निर्धारित समय तक स्कोर 6-6 कर दिया और मैच पेनाल्टी शूटआउट में चला गया।  इसी के साथ जापान की पुरुष और महिला दानों ही टीमों ने स्वर्ण पदक अपने नाम किया।