NSG सदस्यता पर रुस का PAK को झटका, भारत को समर्थन!

  By : Rahish Khan | December 7, 2017

नई दिल्ली। न्यूक्लियर सप्ला‍यर्स ग्रुप (NSG) में भारत की एंट्री को लेकर एक बार फिर कवायद शुरू हो गई है। रूस ने चीन और पाकिस्तान को जोर का झटका देते हुए भारत को समर्थन करने का संकेत दिया है। रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने कहा है कि एनएसजी सदस्यता के लिए भारत की दावेदारी को पाकिस्तान के साथ नहीं जोड़ा जा सकता है। उन्होंने कहा रूस इस बारे में विभिन्न स्तर पर चीन के साथ चर्चा कर रहा है।

बता दें कि चीन लगातार न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप में भारत की सदस्यता को लेकर विरोध कर रहा है। चीन इस पक्ष में है कि 48 सदस्यों वाले एनएसजी ग्रुप के विस्तार के लिए एक कसौटी तय की जाए बजाय इसके कि मेरिट के आधार पर किसी देश को सदस्यता मिले। एनएसजी ग्रुप अंतरराष्ट्रीय स्तर पर परमाणु व्यापार को नियंत्रित करती है। भारत अपनी दावेदारी पर चीन के विरोध को पाकिस्तान के पक्ष में मानता है। वहीं पाकिस्तान के मामले में एनएसजी के कई सदस्य एकमत नहीं हो पाए हैं।

यह मामला फिर चर्चा में आया है। बुधवार को रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने विदेश सचिव एस. जयशंकर से मुलाकात की। एस. जयशंकर से मुलाकात के बाद रयाबकोव ने कहा, ‘एनएसजी सदस्यता की दावेदारी के लिए पाकिस्तान के आवेदन पर कोई सर्वसहमति नहीं है और इसे भारत की दावेदारी के साथ नहीं जोड़ा जा सकता।’

इस मुद्दे पर यह पहली बार है कि जब रूस के किसी सीनियर डिप्लोमेट ने सार्वजनिक रूप से दो मामलों को एक साथ जोड़ने पर प्रतिक्रिया दी हो। रयाबकोव ने कहा, ‘हम इस मसले की जटिलताओं से परिचित हैं, लेकिन हम उन देशों की तरह नहीं हैं जो केवल बात करते हैं। हम वास्तविक रूप से कोशिश कर रहे हैं। हम इस मुद्दे पर चीन के साथ विभिन्न स्तर पर बात कर रहे हैं।’