पाकिस्तान में खुला ‘थर्ड जेंडर’ के लिए स्कूल

  By : Bhagya Sri Singh | April 16, 2018

नई दिल्ली। पाकिस्तान जैसे रुढ़िवादी देश में भी वैचारिक और सामाजिक परिवर्तन का आगाज हो चुका है। पाकिस्तान में किन्नरों के पहला स्कूल खोला गया है। थर्ड जेंडर के लिए खुले स्कूल में जहां उन्हें बेसिक शिक्षा और उच्च शिक्षा मुहैया कराई जाएगी। इसके साथ ही उन्हें व्यावसायिक प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाएगा। थर्ड जेंडर के लिए स्कूल खोलने की पहल एक गैर सरकारी संगठन ने की है जिसका नाम है- एक्सप्लोरिंग फ्यूचर फाउंडेशन ( ईएफएफ), इस संगठन ने नगर के डिफेंस हाउसिंग अथॉरिटी इलाके में जेंडर गार्जियन स्कूल खोला है।

एनजीओ ने बताया कि पाकिस्तान के दूसरे सबसे सघन आबादी वाले शहर लाहौर में करीब 30 हजार किन्नर रहते हैं। इस एनजीओ से सम्बंधित अधिकारियों ने बताया कि आज से स्कूल में कक्षाएं शुरू हो चुकी हैं। इस स्कूल में प्राथमिक से लेकर इंटरमीडिएट तक की शिक्षा मुहैया कराई जायेगी और इसके बाद फिर कॉलेज शिक्षा दी जाएगी।

इसके अलावा स्कूल में आठ पाठ्यक्रमों के लिए प्रशिक्षण भी प्रदान जाएगा। प्रशिक्षण के तहत छात्रों को पाक कला , फैशन डिजाइनिंग और कॉस्मेटिक से जुड़ा कौशल सिखाया जाएगा। इस सिलसिले में ईएफएफ के आसिफ शाहजाद ने जानकारी दी कि स्कूल में छात्रों के लिए कोई आयु सीमा नहीं है और यहां तीन किन्नरों सहित 15 शिक्षक हैं।

आसिफ शहजाद ने बताया कि स्कूल में शिक्षा प्राप्त करने के लिए अब तक कुल 40 किन्नर नामांकन करा चुके हैं। बता दें कि, दुनिया के किसी भी इस्लामिक देश में किन्नरों के लिए खोला गया यह पहला स्कूल है। शाहजाद ने दुःख व्यक्त करते हुए कहा, अभिभावक अपने बच्चे का लिंग छुपाते हैं और समाज के डर से इस बारे में बात नहीं करना चाहते हैं।