नेपाल: करेंसी नोट पर कुछभी लिखा, तो जुर्माना या जेल

  By : Rahul Tripathi | August 10, 2018 1:35 pm

काठमांडू। नेपाल में सरकार ने नोटों को साफ-सुथरा बनाए रखने के लिए एक नया कानून बनाया है। इस कानून के अनुसार नोटों पर लिखने, जलाने, गंदा करने या फिर फाड़ने को आपराधिक कृत माना जाएगा। कानून को लागू करने के लिए सरकार ने 18 अगस्त का दिन निश्चित किया है। इस कानून के बारे में कहा जा रहा है कि क्रिमिनल कोड एक्ट 2007 के अनुसार अगर कोई नोट या सिक्के को नुकसान पहुंचाता है, तो उसे तीन महीने की जेल के साथ-साथ 5000 नेपाली रूपये का जुर्माना भी देना होगा।

नेपाली सरकार ने देश के राष्ट्रीय बैंक तथा देश भर के सभी बैंकों और उनकी शाखाओं को इस आशय से सम्बन्धित निर्देश जारी कर दिये गए हैं। साथ ही देश के सभी नागरिकों को भी इस सम्बन्ध में जानकारी सुनिश्चित की जा रही है। इसके लिए सेंट्रल बैंक तथा अन्य बैंक को लोगों तक यह जानकारी देने की मुहीम चलाई जा रही है। नेपाली रिजर्ब बैंक के प्रमुख प्रबंधक लक्ष्मी प्रपान्ना निरौली का मानना है कि सरकार के इस कदम से देश की मुद्रा का जीवन काल बढ़ जाएगा।

गौरतलब है कि नेपाल में इस तरह का यह पहला कानून है। जिसमें राष्ट्रीय मुद्रा को सुरक्षित रखने का प्रयास किया जा रहा है। हालांकि नकली नोटों को लेकर तो कानून में पहले से ही प्रावधान है लेकिन यह अपने आप में सरकार का एक अनूठा पहल है। एनआरबी के प्रमुख की तरफ से कहा जा रहा है कि यह कानून सम्पूर्ण देश में गुरूवार से लागू हो जाएगा। एनआरबी के अनुसार इस समय देश में कुल 458 अरब नेपाली रुपए का संचालन हो रहा है। जिसमें से लगभग 30 प्रतिशत नोट खराब हो चुके हैं।

उल्लेखनीय है कि नेपाल के साथ भारत के पुराने समय से रोटी-बेटी का सम्बन्ध है। नेपाल का तराई क्षेत्र में भारतवंशी लोगों की अधिकता है। जिसको नेपाल में मधेसी कहा जाता है। जिनका आज भी भारत से गहरा सामाजिक संबंध है। नेपाल एक ऐसा देश है जिसकी सीमा भारत की तरफ से खुली है। हालांकि अब परिस्थितियां काफी बदल गई हैं और इसे बन्द करने की बात की जा रही है। नेपाल से हमारी खुली सीमा का लाभ हमारे दुश्मन देश उठा रहे हैं। पाकिस्तान से पड़े पैमाने पर नकली भारतीय करेन्सी और आतंकवादी हमारी सीमा में प्रवेश करते रहे हैं।