भारत-पाक में भी हो शांति के लिए शिखर वार्ता: शहबाज शरीफ

  By : Rahul Tripathi | June 13, 2018

लाहौर। उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच हुए शांति वार्ता के बाद अब भारत-पाकिस्तान के बीच भी इसी प्रकार की वार्ता की बात उठने लगी है। इसकी वकालत पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भाई और पाकिस्तान मुस्लिम लीग-एन ( पीएमएल-एन) के चीफ शहबाज शरीफ ने की है। उन्होंने कहा कि सिंगापुर शिखर वार्ता दोनों पड़ोसी देशों के लिए एक मिसाल है।

उल्लेखनीय है कि दशकों से चले आ रहे अमेरिका उत्तर कोरिया तनाव से दुनिया के सामने परमाणु युद्ध के साथ-साथ विश्व युद्ध का खतरा मड़रा रहा था। लेकिन सिंगापुर शिखर वार्ता के बाद परिस्थितियां एकदम से बदल गयी हैं। इस ऐतिहासिक शिखर वार्ता के बाद दुनिया से परमाणु युद्ध का खतरा टल गया और दुनिया पहले से सुरक्षित हो गयी है। इसी प्रकार भारत पाकिस्तान की सीमा में शांति के लिए ऐसे ही शिखर वार्ता की बात हो रही है।

पीएमएल-एन के चीफ शहबाज शरीफ ने अपने ट्वीट में कहा है कि उत्तर कोरिया और अमेरिका कोरियाई युद्ध के समय से ही एक दूसरे की विकास को रोकने का प्रयास करते रहे हैं। जहां तक की परमाणु युद्ध की धमकी भी दी जाती रही हैं। इसके बाद भी अगर अमेरिका और उत्तर कोरिया आपसी बातचीत के जरिए अपने विवाद को सुलझा सकते हैं तो भारत और पाकिस्तान ऐसा क्यों नहीं कर सकते। उनके अनुसार इस बातचीत का प्रारम्भ कश्मीर से होना चाहिए। जहां के लोग भारत के कब्जे का विरोध कर रहे हैं।

शहबाज शरीफ कश्मीर समस्या का समाधान संयुक्त राष्ट्र के प्रावधानों के आधार पर करना चाहते हैं। इसलिए वह भारत और पाकिस्तान के बीच रुकी हुई वार्ता को फिर से शुरू करने के पक्ष में हैं। उनका यह बयान अपने भाई नवाज के विचारो के एकदम उलट है। पाकिस्तान के राजनीतिज्ञों का ऐसा मानना है कि नवाज को गद्दी से हटाने के पीछे उनका भारत से संबंधों को सामान्य करने का प्रयास रहा है।