दलाई लामा ने नेहरू-जिन्ना वाले बयान पर मांगी माफी

  By : Bhagya Sri Singh | August 10, 2018 12:33 pm
dalai lama apologize, dalai lama nehru jinnah statement, dalai lama, jawahr lal nehru,mahatma gandhi

नई दिल्ली। तिब्बत के धर्मगुरु दलाई लामा ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु और मोहम्मद अली जिन्ना को लेकर दिए गए अपने बयान पर माफी मांगी है। दलाई लामा ने अफ़सोस जताते हुए कहा कि अगर सबको लगता है कि मैंने कुछ अनुचित कहा है तो मैं अपने कथन के लिए क्षमाप्रार्थी हूं। दलाई लामा ने पिछले गुरुवार को एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की इच्छा थी कि मोहम्मद अली जिन्ना स्वतंत्र भारत के प्रधानमंत्री के पद पर आसीन हों लेकिन पंडित जवाहर लाल नेहरु ने भारत की सत्ता पर अधिग्रहण के लिए बहुत ही आत्म केंद्रित रवैया अख्तियार किया था।

तिब्बत के धर्मगुरु दलाई लामा का कहना था कि मुझे ऐसा लगता है कि सामंती व्यवस्था की जगह प्रजातांत्रिक प्रणाली बहुत अच्छी होती है। सामंती व्यवस्था में सत्ता व फैसला लेने की शक्ति केवल कुछ लोगों के हाथों में रहती है जिस वजह से वो निरंकुश हो सकते हैं। यदि ऐसा होता है तो हालात बदतर हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि इसके लिए पड़ोसी देश भारत का ही उदाहरण ले लीजिये। जहां तक मुझे जानकारी है कि महात्मा गांधी मोहम्मद अली जिन्ना को प्रधानमंत्री बनाना चाहते थे लेकिन पंडित नेहरू ने इस बात को ख़ारिज कर खुद ही सत्ता हथिया ली।

दलाई लामा ने कहा कि मेरा मानना है कि खुद को स्वतंत्र भारत के प्रधानमंत्री के रूप में देखना पंडित नेहरू का आत्म केंद्रित रवैया था। अगर नेहरु ने महात्मा गांधी के आदर्शों और सोच को अपनाया होता तो आज भारत और पाकिस्तानन दो अलग-अलग मुल्क नहीं होते। जहां तक मैं पंडित नेहरु के रवैये को बहुत अच्छी तरह से जानता हूं कि उन्हें राजनीति का काफी अनुभव था और वे एक विवेकवान व्यक्ति थे लेकिन कभी-कभार तो किसी से भी गलती हो जाती है। बता दें कि कई राजनैतिक दलों ने तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा के इस बयान को लेकर काफी हंगामा काटा था और उनके बयान को बेहद अपमानजनक और आपत्तिजनक करार दिया था।