चार्ली चैपलिन: मुस्कराहट से तकलीफों को छुपाता महान कलाकार

  By : Bhagya Sri Singh | April 16, 2018

नई दिल्ली। चार्ली चैपलिन।एक ऐसा कलाकार वो अपनी बेवकूफी और मासूमियत भरी हरकतों से हर किसी को हंसने पर मजबूर कर देता है। वो आज हमारे बीच नहीं है लेकिन उसकी बेहतरीन अदाकारी की वजह से वो आज भी जिन्दा है और अपनी जानदार कॉमेडी की वजह से आज भी हम सबको हंसने पर मजबूर कर कर देता है। चार्ली के हंसते-मुस्कुराते चेहरे के पीछे कितना दुःख-दर्द या तकलीफें छुपी हुई हैं इस बात का अंदाजा शायद किसी को नहीं है। आइए आज हम आपको रूबरू कराते हैं प्रसिद्द हास्य अभिनेता चार्ली चैपलिन की जिंदगी से कुछ अहम् व रोचक पहलू। जिसे जानने के बाद आपके जीवन में सकारात्मकता का संचार होगा और आप परेशानियों से लड़ना सीखेंगे।

चार्ली चैप्लिन16 अप्रैल 1889 को लंदन में पैदा हुए थे। चैपलिन के माता-पिता दोनों ही कलाकार थे। बचपन के शुरूआती सालों को छोड़कर उनका जीवन काफी मुश्किलों भरा था। चार्ली की मां एक गायिका थीं स्टेज के दौरान तभी अचानक से उनकी आवाज बंद हो गई। गुस्साए मैनजर ने छोटे से चार्ली को स्टेज पर खड़ा कर दिया। नन्हा चार्ली अपनी मां की तरह स्टेज पर गाने की कोशिश करने लगा। दर्शकों को मां की नकल करता मासूम चार्ली बहुत भाया। उन्होंने जमकर पैसे बरसाए। ये पहला मौक़ा था जब चार्ली ने स्टेज पर लाइव परफॉरमेंस दी थी।

बचपन में ही चार्ली की मां का मानसिक संतुलन भी खराब हो गया था जिस वजह से उनके पिता ने उन्हें पागलखाने में डाल दिया और दूसरी शादी कर ली। सौतेली मां चार्ली से अच्छा व्यवहार नहीं करती थी। हालांकि कुछ समय बाद चार्ली के मां पागलखाने से सही होकर वापस आ गईं। लेकिन कुछ समय बाद ही चार्ली के पिता की अत्यधिक शराब के सेवन के कारण मृत्यु हो गई। जिस वजह से महज 13 साल की उम्र में चार्ली को पढ़ाई-लिखाई भी छोड़नी पड़ी।
चार्ली को दूसरों को हंसाने और अपने ह्यूमर की वजह से महज 19 साल की उम्र में एक अमेरिकन कंपनी ने साइन कर लिया और वह अमेरिका जा कर कॉमेडी शो करने लगे। चार्ली के जीवन में एक समय ऐसा भी था जब वो स्टेज पर अभिनय करते थे तो दर्शक उन्हें पसंद नहीं करते थे लेकिन चार्ली ने हार नहीं मानी और मेहनत करते रहे। इसका परिणाम हुआ कि साल 1918 तक वो दुनिया का जाना-पहचाना चेहरा बन चुके थे।

चार्ली चैपलिन की कॉमेडी लोगों को इतनी ज्यादा पसंद आई कि 1914 में उनकी एक फिल्म आई जिसका नाम था ‘मेकिंग अ लिविंग’। इस फिल्म में चार्ली ने मूक अभिनय के जरिए लोगों का दिल जीत लिया था। चार्ली चैपलिन ने कहा था, ‘मेरा दर्द किसी के हंसने की वजह हो सकता है। पर मेरी हंसी कभी भी किसी के दर्द की वजह नहीं होनी चाहिए।’

चार्ली चैपलिन की लव लाइफ भी काफी उलझनों भरी रही। उनकी गर्लफ्रेंड उन्हें छोड़ कर चली गयी जिसके बाद चार्ली ने कुल 4 शादियां की। उनके 11 बच्चे थे। उन्होंने पहली शादी 1918 में मिल्ड्रेड हैरिस से की थी लेकिन यह शादी 2 साल ही चली। इसके बाद उन्होंने लिटा ग्रे, पॉलेट गॉडर्ड और 1943 में 18 साल की उना ओनील से शादी की। चार्ली की शादियां काफी विवादित रहीं।