ताजमहल पर केंद्र को फटकार, संभलता नहीं तो ढहा दो: SC

  By : Rahish Khan | July 11, 2018 3:33 pm
Taj mahal protect, supreme court, centre government, up government

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने ताजमहल के संरक्षण और रखरखाव को लेकर कड़ा रुख अख्तियार किया है। सर्वोच्च अदालत ने बुधवार को ताजमहल के आसपास प्रदूषण के मुद्दे पर सुनवाई करते हुए राज्य और केंद्र सरकार को कड़ी फटकार लगाई है। कोर्ट ने कहा कि अगर इसे संभाल नहीं सकते तो ढाह दीजिए। अब कोर्ट इस मामले में 31 जुलाई से रोजाना सुनवाई करेगा।

गौरतलब है कि दुनिया के सात अजूबों में शामिल ताजमहल की पिछले कुछ समय से चमक फीकी पड़ती जा रही है जिसको लेकर सुप्रीम कोर्ट लगातार सख्ती दिखा रहा है। कोर्ट ने आगरा में ताजमहल के आसपास प्रदूषण के स्रोत का पता करने के लिए एक विशेष समिति के गठन का आदेश दिया है और इसे रोकने के उपायों का सुझाव मांगा है।

कोर्ट ने कहा कि या तो ताजमहल को सरंक्षण दो नहीं तो इसे बंद कर दो। एफिल टॉवर को देखने 80 मिलियन लोग आते है, लेकिन ताज को देखने सिर्फ मिलियन लोग ही आते हैं। सरकार ताज को लेकर गंभीर नहीं है और ना ही इसकी परवाह कर रही है। कोर्ट ने योगी सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि सरकार ने स्टैंडिंग कमेटी की रिपोर्ट को भी नजरअंदाज किया है। सर्वोच्च अदालत ने पूछा है कि ताजमहल के आसपास उद्योगों को बढ़ाने के लिए अनुमति क्‍यों दी गई?

बता दें कि पिछले साल सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने एक हलफनामा पेश किया था। जिसमें सरकार ने बताया कि ताजमहल के संरक्षण और आगरा के विकास के लिए कई योजनाएं तैयार की गई हैं। इनमें आगरा में डीजल जनरेटर पर पाबंदी, CNG वाहनों पर ज़ोर, प्रदूषण पर नियंत्रण और पॉलीथिन पर पाबंदी जैसे कदम भी शामिल हैं।