32 घंटे बाद दो आतंकी ढेर, सेना का सर्च अॉपरेशन जारी

  By : Bankatesh Kumar | February 13, 2018
jammu kashmir, karanagar, crpf 23rd corps headquarter, srinagar, encounter, जम्मू कश्मीर, करणनगर, सीआरपीएफ 23वीं वाहिनी मुख्यालय,श्रीनगर,एनकाउंटर

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर के कर्ण नगर स्थित सीआरपीएफ कैंप के पास सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ खत्म हो गई है। 32 घंटे चले अॉपरेशन के बाद दो आतंकी मारे गए हैं। फिलहाल सेना इमारत की तलाशी ले रही है जिसमें आतंकी छुपे थे। इसी बीच अलगाववादी समर्थकों ने वहां पर पत्थरबाजी शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक आतंकियों के पास से कई स्वचालित हथियार बरामद किए गए हैं।

बता दें कि आतंकियों और सेना के बीच सोमवार सुबह से गोलीबारी चल रही थी।आतंकी जिस इमारत में छुपे हुए हैं उसे जवानों ने चारों ओर से घेर रखा है। पिछले 24 घंटे से लागातार गोलीबारी हो रही है। जवानों ने दो आतंकियों को मार गिराया है। सूत्रों के अनुसार आतंकी अत्याधुनिक हथियार से लैस हैं। लेकिन भारतीय जवान करारा जवाब दे रहे हैं। खबर है कि आतंकी जिस मकान में छुपे हुए हैं वह चार मंजिला है। आर्मी अब बिल्डिंग को उड़ाने का प्लान बना रही है। वहीं बिल्डिंग के आसपास के क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। आतंकियों पर निगरानी रखने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल किया गया है। जिस बिल्डिंग में आतंकी छुप कर बैठे हैं, वह बिल्कुल नई बनी है। अभी बिल्डिंग की खिड़कियों में शीशे नहीं लगे है। आतंकियों की संख्या चार  बताई जा रही है।

सीआरपीएफ  के IG ऑपरेशन जुल्फिकार हसन ने बताया कि अभी तक एनकाउंटर जारी है। आंतकी जिस बिल्डिंग में छुपे हुए हैं उसके आसपास के मकान को खाली करवा दिया गया है। ताकि अॉपरेशन के दौरान आम नागरिक को नुकसान न हो। वहीं जम्मू-कश्मीर पुलिस आइजी एसपी पाणी ने बताया कि ऑपरेशन अपने अंतिम दौर में  है।

बता दें कि सोमवार को आतंकियों ने श्रीनगर के कर्ण नगर इलाके में स्थित सीआरपीएफ की 23वीं वाहिनी के मुख्यालय पर हमले की कोशिश की थी। जिसे सीआरपीएफ के जवानों ने विफल कर दिया था। जवानों की तरफ से फायरिंग करने के बाद आंतकी भाग खड़े हुए और पास के एक मकान में भागकर छुप गए थे। तब से दोनों तरफ से गोलीबारी जारी है। इस गोलीबारी में सीआरपीएफ का एक जवान शहीद हो गया है। वहीं लश्कर ने हमले की जिम्मेदारी ली है।

सीआरपीएफ की 23वीं वाहिनी के मुख्यालय के अधिकारियों ने बताया कि आज तड़के करीब साढ़े चार बजे स्वचालित हथियारों से लैस दो आतंकी वाहिनी मुख्यालय की तरफ आ रहे थे। संतरी ने दो युवकों को जब अंधेरे में शिविर की तरफ आते देखा तो उसे कुछ संदेह हुआ। उसने अपने अन्य साथियों को सचेत करते हुए आतंकियों को रुकने व अपनी पहचान बताने के लिए कहा। संतरी द्वारा देख लिए जाने पर दोनों आतंकियों ने वहीं अपनी पोजीशन ले गोली चलाई। लेकिन संतरी ने खुद को बचाते हुए जवाबी फायर किया। फिर आतंकी वहां से भाग खड़े हुए।