OMG: यहां टॉयलेट के पानी से चल रही है 50 AC बसें

  By : Shubham Srivastawa | August 28, 2018 3:21 pm
In-Nagpur-ac-buses-are-operated-with-toilet-water

नई दिल्ली। जिस टॉयलेट के पानी को आप गंदा समझकर नाली में बहा देते हैं। दरअसल, इसी टॉयलेट के पानी को नागपुर की एक सरकारी एजेंसी बेचकर करोड़ो रूपये कमा रही है। ये जानने के बाद आपको थोड़ा अजीब जरुर लगेगा, लेकिन यह सच है। कंपनी ने दावा किया है कि उन्होंने इस पानी को  78 करोड़ रुपये में बेचा है। जिससे इस समय शहर में तक़रीबन 50 एसी बसें चलाई जा रही हैं।

दरअसल, केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि नागपुर में वैकल्पिक फ्यूल को लेकर कई प्रयोग किए जा रहे हैं। जिसमें से एक टॉयलेट के पानी से बायो सीएनजी निकालकर उससे बस चलाने की योजना है। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में शहर में ऐसी वाली 50 बसें इससे चल रही हैं।

वहीं गडकरी ने यह भी कहा कि पेट्रोलियम मंत्रालय के तहत काम करने वाली कई तेल और गैस कंपनियों के साथ एक करार किया गया है, जिससे गंगा के किनारे बसने वाले 26 शहरों को इसका लाभ मिलेगा। गडकरी ने कहा कि पानी की गंदगी से निकलने वाली मीथेन गैस से बायो सीएनजी तैयार किया जायेगा, जिससे इन 26 शहरों में सिटी बसें चलेंगी। इस काम से लगभग 50 लाख युवाओं को नौकरी मिलेगी और गंगा की सफाई भी होगी।

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने बताया कि हमारे देश में कोयले की कमी नहीं है। इससे मीथेन निकालकर मुंबई, पुणे और गुवाहाटी में सिटी बस चलाने की तैयारी की जा रही है। वहीं गडकरी ने पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमत पर कहा कि जहां इस समय एक लिटर पेट्रोल की कीमत 70 से 72 रुपया है। वहीं मीथेन की कीमत मात्र 16 रुपये है। ऐसे में यदि हम इसपर काम करते हैं तो पेट्रोल और डीजल से छुटकारा मिल जायेगा।

गौरतलब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 अगस्त को बायोफ्यूल डे पर संबोधन के दौरान नाले की गैस से चाय बनाने वाले एक शख्स का किस्सा सुनाया था। जिसके बाद पीएम मोदी को सोशल मीडिया पर ट्रोल होना पड़ा था। इतना ही नहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कर्नाटक में एक रैली के दौरान मोदी के किस्से पर तंज कसा था। लेकिन, आज जो यह खबर आई है यह सच में चौकाने वाली खबर है।