शादी के पहले बीमार पड़ी दुल्हन, हॉस्पिटल में हुआ निकाह

  By : Team Khabare | November 13, 2017
marriage in kolkata g d hospital

कोलकाता। बेशक जोड़ियां जन्नत में बना करती हों, लेकिन कोलकाता का एक अस्पताल ऐसा भी है जो खुद जोड़ी बनाने का गवाह बना है। जी हां, ये कोई फिल्मी कहानी नहीं बल्कि हकीकत है, बेशक इस वाकये को पढ़ते हुये आपके जेहन में विवाह फिल्म का नायक शाहिद कपूर आ जाये। लेकिन ये कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है। तो आइये बताते हैं कि ​कैसे एक हॉस्पिटल विवाह बेदी में बदल गया।

दरअसल पूरा वाक्या कुछ इस प्रकार है, सउदी अरब में बतौर मकैनिकल इंजीनियर काम कर रहे शाहनवाज आलम की शादी हैदराबाद में पेशे से वकील हायरा जावेद से मुकर्रर हुयी थी। दोनों परिवारों में शादी को लेकर काफी उत्साह था और आपसी रजामंदी पर इस शादी के लिए कोलकाता का वेनियापुकुर के युनाईटेड पैलेस को चुना गया था।

दूल्हा और दुल्हन दोनों के घरों में शादी की तैयारियां जोरो पर थीं। उसी वक्त शादी के ठिक एक दिन पहले दुल्हन हायरा के पेट में अचानक भयानक दर्द उठा, इतना ही नहीं उसे लगातार उल्टियां भी आनी शुरू हो गयी। शादी के मुबारक मौके पर हायरा की ये हालत देखकर घर वाले घबरा गये और वो उसे तत्काल जीडी हॉस्पिटल लेकर गये।

डॉक्टरों के इलाज के बाद भी हायरा के हालत में जल्दी सुधार नहीं दिख रहा था, वहीं डॉक्टरों ने इस हालत में उसे हॉस्पिटल से डिस्चार्ज करने से भी मना कर दिया। हायरा के घर वालों ने उसकी शादी की दलीलें और दुहाई दी लेकिन डॉक्टर भी उसकी खराब हालत के आगे बेबस थें। खैर जैसे तैसे सूचना दुल्हे के घर पहुंची।

हायरा के घर वालों को शादी की चिंता खाये जा रही थी, उन्हें किसी अनहोनी का आभास हो रहा था। लेकिन हुआ कुछ ऐसा जिसका अंदाजा शायद किसी ने भी नहीं लगाया था। जी हां, शाहनवाज शादी की तारीख पर ही अपने कुछ घर वालों के साथ हॉस्पिटल पहुंचा। यूं दुल्हे के घर वालों को मौके पर देखकर दुल्हन के घर वालों का घबराना लाजमि था।

लेकिन उनके आंखों से बरबस ही आंसू छलक पड़ें जब उन्हें पता चला कि, शाहनवाज वहां पर उनकी बेटी हायरा से निकाह पढ़ने आया था। फिर क्या था थोड़े ही देर में अस्पताल का चेंबर एक खुशनुमा विवाह बेदी में बदल गया। थोड़ी देर बाद बेड नंबर 536 से लाल जोड़े में सजी हुयी हायरा को व्हील चेयर पर बैठाकर कॉन्फ्रेंस रूम में लाया गया। उस समय हायरा के हाथों वॉटर ड्रीप के इंन्जेक्शन लगे थें। इसके अलावा उसके नाक में भी एक ट्यूब लगी हुयी थी।

लेकिन इन सब बातों से परे वहां पर कुछ ऐसा होने वाला था जो कि उस पल को हमेशा के लिए मौजूद लोगों के जेहन में अमर कर देने वाला था। इसके बाद हायरा और शाहनवाज दोनों ने अपने परिजनों और अस्पताल के स्टॉफ के बीच काजी की मौजूदगी में निकाह पढ़ा और हमेशा के लिए एक दूसरे के हो गये।

हायरा की हालत थी नाजुक:
हायरा की तबीयत खराब होने के बारे में जीडी हॉस्पिटल के सीईओ मुर्शफा हुसैन ने बताया कि, हायरा के पेट में कुछ इन्फेक्शन हो गया था जिसके चलते उसके पेट में लगातार दर्द और उल्टियां हो रही थीं। ऐसे हालत में उसे रिकवर होने में समय लग रहा था, इसलिए हम उसे हॉस्पिटल से डिस्चार्ज ​नहीं कर सकें। लेकिन हमें इस बात की खुशी है कि, हायरा उसी दिन दुल्हन बनी जिस दिन उसकी शादी की तारीख तय हुयी थी।