आसाराम मामले में गवाह के बेटे का अपहरण

  By : Bankatesh Kumar | June 13, 2018

शाहजहांपुर। नाबालिग से बलात्कार मामले में जेल की सजा काट रहे कथावाचक आसाराम के खिलाफ गवाही देने वाले कृपाल सिंह की हत्या के एक चश्मदीद गवाह रामशंकर विश्वकर्मा के 16 वर्षीय बेटे धीरज विश्वकर्मा के अपहरण का मामला सामने आया। पिता रामशंकर का आरोप है कि बयान बदलने के लिए बेटे का अपहरण किया गया है। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने अपहरण के तहत मामला दर्ज कर लिया है। हालांकि मामला दर्ज होने के बाद गवाह का बेटा वापस आ गया।

आसाराम नाबालिग के साथ दुष्कर्म के मामले में उम्रकैद की सजा काट रहे हैं। अभी हाल में ही जोधपुर कोर्ट ने उन्हें मामले में दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी। बता दें कि 10 जुलाई 2015 को इस केस के मुख्य गवाह कृपाल सिंह की कैंट क्षेत्र में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। कृपाल सिंह की हत्या के चश्मदीद गवाह रामशंकर विश्वकर्मा है। सोमवार को उनका 16 वर्षीय बेटा धीरज विश्वकर्मा घर से लापता हो गया था। काफी देर तक तलाश के बावजूद जब बेटे का पता नहीं चला, तो परिजनों ने पुलिस थाने में जाकर अपहरण का मामला दर्ज कराया।
कृपाल सिंह हत्याकांड में गवाह रामशंकर को 28 जून को अदालत में गवाही देनी है। उनका आरोप है कि कोर्ट में गवाही ना देने या बयान बदलने को लेकर दबाव बनाने के लिए उनके बेटे का अपहरण कराया गया। हलाकि धीरज सही सलामत घर लौट आया। पीड़ित धीरज ने बताया कि कार सवार कुछ लोग उसके पास आए और उसे बेहोश करके गाड़ी में डालकर ले गये। जब उसकी आंख खुली तो वह मेरठ में था। अपहरणकर्ता कुछ सामान लेने के लिए गाड़ी में उसे अकेला छोड़कर चले गए। मौका पाकर वह गाड़ी से भाग निकला और मेरठ रेलवे स्टेशन पहुंच गया। जीआरपी ने उसे शाहजहांपुर जाने वाली ट्रेन में बिठा दिया और वह घर आ गया। पुलिस अधीक्षक नगर दिनेश त्रिपाठी ने बताया कि अपहरण का मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।