शादी के बाद महिलाओं को इन बातों को लेकर होता है अफ़सोस

  By : Bhagya Sri Singh | August 18, 2018 4:04 pm
regrets of women,regrets of women after marriage,regrets of women after marriage in hindi,girls become romantic,what to do become romantic,couple romance,first night romance

नई दिल्ली। शादी का फैसला लेना दुनिया के हर इंसान के लिए बेहद कठिन काम है। लड़कियों के लिए यह और भी मुश्किल है क्योंकि अचानक से अपना घर छोड़कर एक अजनबी के साथ एक छत के नीचे रहने की कल्पना मात्र से ही लड़कियों को डर महसूस होता है। लड़कियां चाहती हैं कि उनका लाइफ पार्टनर रोमांटिक और क्यूट हो लेकिन उन्हें लगता है कि अगर उन्होंने जैसा सोचा है वैसा जीवनसाथी उन्हें नहीं मिला तो कैसा होगा। शादी एक जीवन भर का फैसला है और इसे बेहद सोच समझ कर लेना चाहिए ताकि आगे जाकर किसी बात को लेकर पछताना न पड़े।

भावुक होकर शादी का फैसला लेने से बचें क्योंकि ऐसा करने से भविष्य में आपको काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इस बात से कोई भी इनकार नहीं कर सकता है कि लड़कियों की जिंदगी में शादी के बाद काफी परिवर्तन आते हैं। कुछ चीजें लड़कियों के मनमुताबिक होती हैं और कुछ नहीं। ऐसे में शादी के बाद लड़कियों को इन बातों को लेकर बेहद अफ़सोस होता है:

– शादी के बाद लड़कियों पर काफी जिम्मेदारी आ जाती है। उन्हें एक बहू, पत्नी और अन्य कई भूमिकाओं में खुद को साबित करना होता है। ऐसे में जब लड़की को खुद अपने लिए समय नहीं मिलता तो  वो झुंझलाने लगती है और उसे अफ़सोस होता है कि उसकी जिन्दगी केवल दायरों में सिमट कर रह गयी है। लड़कियां सबसे ज्यादा प्यार अपनी आजादी से करती हैं और किसी भी कीमत पर इसे खोना नहीं चाहती हैं।

– शादी के बाद लड़कियों के जीवन से पर्सनल स्पेस जैसी चीजें बिलकुल खत्म हो जाती है। हर वक्त कोई न कोई उनके साथ साये की तरह बना रहता है। भले ही सामने वाला ऐसा उत्सुकतावश कर रहा हो लेकिन लड़कियां इस स्थिति में बेहद असहज महसूस करती हैं।

– शादी के कुछ दिन बाद ही लोग लड़की से पूछने लगते हैं कि और गुड न्यूज़ कब दे रही हो। ऐसे में लड़की को लगता है कि क्या मैंने केवल बच्चा पैदा करने के लिए शादी थी या क्या इसके अलावा मेरा कोई वजूद नहीं है।

– शादी के बाद नए घर के अनुसारर लड़की को जब अपने में कुछ बदलाव करने पड़ते हैं तो उन्हें बेहद दुःख होता है कि उन्होंने जिस घर को पूरे दिल से अपनाया है वो उन्हें उनके वास्तविक स्वरुप में स्वीकारने को क्यों नहीं तैयार है। लड़कियां प्रेम में यकीन करती हैं समझौते में नहीं।