क्यों आती है रिश्ते में तलाक की नौबत

  By : Priyambada | August 13, 2018 4:05 pm

नई दिल्ली। अब शादी को सात जन्मों का बंधन नहीं समझा जाता है। क्योंकि अब तो शादी और तलाक दोनों इसी जन्म में होने लगे हैं। तलाक लेने का यह चलन पहले विदेशों तक ही सीमित था। लेकिन अब ऐसा लग रहा है जैसे भारत में भी इस ट्र्रेेड को तेजी से अपनाया जा रहा है। हर साल न जाने कितने ही रिश्ते तलाक की भेंट चढ जाते हैं। आइये जानते हैं तलाक के कारणों के बारें में-

अत्यधिक अपेक्षाएं :– किसी भी रिलेशनशिप का आधार जिम्मेदारियों और उसके प्रति अपने कर्तव्यों पर निर्भर करता है। ऐसे में अपने पार्टनर से अपेक्षाएं रखना तो लाजमी सी बात है। लेकिन अगर यही अपेक्षाएं आवश्यकता से अधिक बढ़ जाए तो यह किसी भी रिश्ते के लिए घातक हो सकता है। अपने पार्टनर से उतनी ही उम्मीद रखनी चाहिए जिस पर वह खरा उतर सके।

घरेलू हिंसा :– आज भी देश के कई हिस्से ऐसे हैं जहां पर महिलाओं को समानता का दर्जा नहीं दिया जाता है। पुरूष अक्सर उन पर अपना वर्चस्व स्थापित करने के गाली गलौज व मारपीट का सहारा लेते हैं। अक्सर महिलाएं मार खाकर चुपचाप रहती हैं। हालांकि धीरे धीरे कुछ महिलाओं ने इसका विरोध शुरू कर दिया है और वह अधिक समय तक ऐसे रिश्ते का बोझ नहीं ढोतीं व ऐसे रिश्तों का अंत तलाक होता है।

फाइनेंस :– अक्सर तलाक एक बड़ा कारण होता है- फाइनेंस। अगर पैसों का मैनेजमेंट सही ढंग से न किया जाए तो इससे किसी भी रिलेशनशिप पर बड़ा असर होता है। अक्सर ऐसा देखा गया है कि एक पार्टनर अत्यधिक खर्चीला होता है और एक सेविंग करने वाला होता है और यही असमानता दोनों के रिश्ते को प्रभावित करती है।

कम्यूनीकेशन की कमी :– किसी भी रिलेशनशिप को आगे बढ़ाने का सबसे बड़ा तत्व है उनमें कम्यूनीकेशन होना। हालांकि रिश्ते शुरूआती दौर में तो कम्यूनीकेशन से भरपूर होते हैं, लेकिन समय के साथ साथ अक्सर कम्यूनीकेशन में कमी आने लगती है। अपना अपना करियर, समय की कमी आदि के चलते पार्टनर एक साथ तो रहते हैं लेकिन हेल्दी कम्यूनीकेशन न होने की वजह से अपने आप दूरियां बढ़ने लगती हैं।

धोखा या दूसरा अफेयर :-किसी भी रिलेशनशिप में दो पार्टनर इस आश्वासन से जुडते हैं कि वे एक दूसरे का भरपूर प्यार और साथ निभाएंगे। मगर ऐसे में अगर कोई पार्टनर दूसरे को धोखा देने लगे तो ऐसे रिश्ते अक्सर खत्म हो जाते हैं। किसी भी रिश्ते की नींव विश्वास सच व प्यार पर टिकती हैं तो ऐसे में अगर यही फैक्टर न रहें तो रिश्ते का कोई वजूद नहीं रह जाता है।

कम उम्र में शादी करना :– अक्सर 14 से 15 की उम्र में किसी पर भी दिल आ जाना बहुत ही आम बात है। हम अक्सर लोगों को पसंद करने लगते हैं। लेकिन लड़कपन की उम्र में जोड़े गये रिश्तों की बुनियाद कच्ची होती है। इस लिए शादी ब्याह व रिश्ते हमेशा समझदारी के साथ जोड़ने चाहिए। कम उम्र में जोड़े गए रिश्तों को निभा पाना दोनों पार्टनर के लिए आसान नहीं होता। ऐसे में ये रिश्ते टूट जाते हैं।