प्रेगनेंसी: उल्टियां और मिचली रोकने के कारगर उपाय

By Bhagya Sri Singh Aug 8, 2018 3:27 pm

नई दिल्ली। गर्भावस्था के शुरूआती दौर में जब भ्रूण महिला के गर्भ में आता है तो मॉर्निंग सिकनेस की समस्या होना बेहद आम बात है। इस दौरान महिला के शरीर में आंतरिक व बाह्य रूप से काफी परिवर्तन होते हैं। हॉर्मोन में होने वाले बदलाव के कारण महिलाओं को उल्टी और जी मिचलाने की समस्या से दो चार होना पड़ता है। हालांकि काफी महिलाओं में यह समस्या गर्भ धारण के तीन माह तक ही सामने आती है लेकिन कुछ मामलों में पूरे गर्भावस्था काल तक भी महिलाओं को इस परेशानी का सामना करना पड़ता है।

गर्भवती महिला का जी मिचलाना और उसे उसे उल्टी होने गर्भावस्था के प्रारंभिक लक्षण हैं। पहली तिमाही में महिलाओं में यह समस्या आम तौर पर देखी जाती है। यह एक सामान्य लक्षण है लेकिन यदि गर्भवती महिला को बहुत ज्यादा उल्टियां हो रही हैं या जी मिचला रहा है तो यह किसी बड़ी परेशानी का संकेत हो सकता है। आइये आज आपको बताते हैं कि किन घरेलू उपायों को अपनाकर आप इस परेशानी से निजात पा सकते हैं:

– यदि गर्भवती महिला को लगातार उल्ट‍ियां हो रही हों तो रात के समय एक ग्लास पानी में काले चने को भिगोकर छोड़ दीजिए। सुबह उठकर इस पानी का सेवन कर लें लेकिन चने निकाल दीजिए।

– गर्भावस्था के दौरान जब महिला को उल्टियां महसूस हों तो ऐसी स्थिति में उसे आंवले का मुरब्बा खाना चाहिए। यह बेहद फायदेमंद रहता है।

– अगर गर्भवती महिला को लगातार उल्टी हो रही हो और जी मिचला रहा हो तो सूखा धनिया या फिर हरे धनिए को पीसकर उसका मिश्रण बनाकर बीच-बीच में हलके गुनगुने पानी के साथ लेते रहना चाहिए। यदि मन हो तो इसमें काला नमक मिला सकती हैं यह पाचक का काम करता है।

– गर्भावस्था के दौरान मॉर्निंग सिकनेस से निजात पाने के लिए जीरा, सेंधा नमक और नींबू के रस को मिलाकर एक मिश्रण तैयार कर लें इसे थोड़ी-थोड़ी देर में चूसते रहें। ऐसा करने से उल्टी होनी रुक जाएगी।

– गर्भावस्था के दौरान मॉर्निंग सिकनेस से निजात पाने के लिए तुलसी के पत्ते के रस में शहद मिलाकर चाटिये। इससे भी काफी फायदा पहुंचता है।

रिलेटेड पोस्ट