सेवन करें कटहल, ब्लड सर्कुलेशन रहेगा नियंत्रित

  By : Bankatesh Kumar | May 22, 2018
lifestyle, health, jackfruit, लाइफस्टाइल, स्वास्थ्य, कटहल

नई दिल्ली। कटहल की सब्जी का नाम सुनते ही बहुत से लोग नाक सिकुड़ लेते हैं। लोगों का मानना है कि कटहल की सब्जी बहुत ही शख्त होती है। इसे पचाने में काफी वक्त लगता है। वहीं कुछ शाकाहारी लोग इसे नॉनवेज के ऑप्शन रूप में भी इस्तेमाल करते हैं। क्योंकि चटकदार बनाने के बाद इसका स्वाद कुछ नॉनवेज से मिलता है। वहीं कटहल को अचार के रूप में बड़े चाव के साथ खाया जता है। कुछ लोग तो पके हुए कटहल को भी बड़े चाव से खाते हैं। पर आपको मालूम नहीं होगा कि कटहल में औषधीय गुण पाए जाते हैं। इसमें विटामिन A, C, थाइमिन, पोटेशियम, कैल्‍शियम, राइबोफ्लेविन, आयरन, नियासिन और जिंक भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। ता आइए आज जानते हैं कटहल खाने से होने वाले फायदे के बारे में।

ब्लड सर्कुलेशन नियंत्रितः यह आयरन का एक अच्छा सोर्स है जिसकी वजह से एनीमिया से बचाव होता है। साथ ही इसके प्रयोग से ब्लड सर्कुलेशन भी नियंत्रित रहता है। अस्थमा के इलाज में भी ये एक कारगर औषधि की तरह काम करता है। इसके लिए सबसे पहले कच्चे कटहल को पानी में उबालकर छान लें। जब पानी ठंडा हो जाए तो इसे पी लें। नियमित रूप से ऐसा करने से अस्थमा की समस्या में फायदा होता है।

शरीर में ताजगीः पका हुआ कटहल खाने से शरीर में ताजगी बनी रहती है। इसके लिए कटहल के पल्प को अच्छी तरह से मैश करके पानी में उबालकर पी लें। ऐसा रोज करने से आपके शरीर में ताजगी बनी रहती है। कटहल में विटामिन ए भी पाया जाता है जिससे आंखों की रोशनी बढ़ती है और त्वचा में निखार आता है। वहीं चेहरे की खूबसूरती बढ़ जाती है।

डाइजेशन पावर मजबूतः कटहल अल्‍सर और पाचन संबंधी समस्‍या को दूर करता है। कब्‍ज की समस्‍या को दूर करने में भी यह बहुत फायदेमंद है। कटहल की पत्तियों की राख अल्सर के इलाज के लिए बहुत उपयोगी होती है। हरी ताजा पत्तियों को साफ धोकर सुखा लें। सूखने के बाद पत्तियों का चूरन तैयार करें। पेट के अल्सर से ग्रस्त व्यक्ति को इस चूरन को खिलाएं। अल्सर में बहुत जल्दी आराम मिलेगा।