15 सितंबर से नया सिम लेने के लिए करना होगा यह काम

  By : Shubham Srivastawa | August 19, 2018 4:31 pm
uidai-face-authentication-feature-to-roll-out-in-september-15

नई दिल्ली। 15 सितंबर के बाद से किसी भी कंपनी का सिम लेने के लिए ग्राहक को अपने आधार कार्ड से चेहरे का मिलान करवाना अनिवार्य होगा। क्योंकि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) ने व्यक्ति की पहचान के सत्यापन के लिए आउटलेट पर तत्काल ली गई तस्वीर से की जाएगी। जिसके लिए यूआईडीएआई ने सभी टेलिकॉम कंपनियों से साथ मिलकर 15 सितंबर से यह सुविधा शुरू करेगा।

बता दें कि प्राधिकरण इस सुविधा को एक जुलाई से ही लागू करने वाला था, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 15 सितंबर कर दिया गया है। इस तरह अब मोबाइल सिम कार्ड लेने वाले ग्राहक की पहचान आधार के फोटो के साथ ही आमने-सामने लिए गए फोटो से की जाएगी।

वहीं जो टेलिकॉम कंपनियां अगर इस प्रक्रिया को फॉलो नहीं करेंगी उनपर मौद्रिक जुर्माना लगाया जायेगा। यूआईडीएआई ने कहा है कि दूरसंचार कंपनियों के अलावा अन्य सत्यापन एजेंसियां के लिए चेहरा पहचानने की सुविधा के क्रियान्वयन के बारे में निर्देश बाद में जारी किए जाएंगे। हालांकि, प्राधिकरण ने इसके लिए कोई समयसीमा नहीं दी है। बता दें कि यह प्रक्रिया केवल आधार कार्ड से नया सिम लेने वालों के लिए होगा। यदि आप किसी दुसरे आईडी से नया सिम लेते हैं तो यह परक्रिया फॉलो नहीं करना होगा।

यूआईडीएआई ने कहा कि यह कदम इसलिए उठाया गया है, क्योंकि पहले सिम लेते समय फिंगरप्रिंट लेना जरुरी होता था, लेकिन इससे कई बार क्लोनिंग कर नया सिम ले लिया जाता था। ऐसे में इससे बचने के लिए लिए यह कदम उठाया गया है। गौरतलब है कि इसी साल जून में हैदराबाद के एक मोबाइल सिम कार्ड वितरक ने आधार ब्योरे में गड़बड़ी कर हजारों की संख्या में सिम एक्विटवेट किए थे।

वहीं इस सुविधा को शुरू करते हुए यूआईडीएआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अजय भूषण पांडे ने एक न्यूज़ एजेंसी से बात करते हुए कहा है कि लाइव फेस फोटो को ईकेवाईसी फोटो से मिलाने का निर्देश सिर्फ उन्हीं मामलों जरूरी होगा जिनमें सिम जारी करने के लिए आधार का इस्तेमाल किया जा रहा है।