जानिए क्या है ‘चिपको आंदोलन’ जिसे आज गूगल भी कर रहा है याद

By Ashwani Tiwari Mar 26, 2018 12:53 pm
If you like it share it :

अश्विनी ‘सत्यदेव’

नई दिल्ली। देश के इतिहास में कई ऐसे आंदोलन हुए है जिनका अपना एक अलग ही अंदाज और उद्देश्य रहा है। असहयोग आंदोलन, स्वतंत्रता आन्दोलन, क्रन्तिकारी आन्दोलन, भारत छोड़ो आंदोलन जैसे कई ऐसे नाम इतिहास में दर्ज है। इसी फेहरिस्त में एक और नाम शुमार है जिसे देश ‘चिपको आंदोलन’ के नाम से जानता है। इस आंदोलन की शुरूआत आज ही के दिन हुई थी जिसे गूगल भी याद कर रहा है। हम आपको अतीत के पन्नों में जब्त उस दस्तां को बतायेंगे कि, किस तरह एक महिला की सोच ने इसे जन आंदोलन में बदल दिया और जिसके दृण निश्चय के आगे मर्दों की विशाल सेना को भी नत मस्तक होना पड़ा। जानिए क्या है चिपको आंदोलन —

जैसा कि, आप इस आंदोलन के नाम से ही अंदाजा लगा चुके होंगे कि, ये आंदोलन किसी चीज से चिपकने के विषय पर आधारित है, आप सही भी हैं। जिस तरह कोई भी आंदोलन शुरूआत में महज एक विरोध की आवाज होती है वैसे ही ये भी एक कंठ से निकली हुई वाणी मात्र ही था, लेकिन समय ने इसे वो शक्ति दी जिसने इसे एक आंदोलन का रूप दे दिया।

ये बात आजादी के कई वर्षों पूर्व सन 1927 की है, देश में पहली बार ‘वन अधिनियम 1927’ को लागू किया गया था। इस अधिनियम के कई कानून ऐसे थें जो कि, वनों में रहने वाले आदिवासी जनजातियों आदि के खिलाफ थें। यानी की इन नियमों का सीधा असर उनके दैनिक जीवन पर पड़ने वाला था। चूकिं अधिनियम लागू कर दिया गया था तो इसका विरोध होना भी लाजमी थी। हुआ भी वैसा ही, उस वक्त के टिहरी जिले में जो अब उत्तराखंड के जंगलों में रहने वाले स्थानीय लोगों ने इसका विरोध किया। सन 1930 में टिहरी में एक बड़े ही भव्य रैली का आयोजन किया गया और वन अधिनियम के कड़े नियमों का विरोध किया गया।

आग सुलग चुकी थी —

वन ​अधिनियम के खिलाफ जंगलों में रहने वाले और पर्यावरण से प्रेम करने वालों के सीने में एक आग सुलग चुकी थी। उस वक्त महात्मा गांधी की एक शिष्या सरला बेन भी सन 1961 में इस विरोध को एक अभियान का रूप दिया और देश भर के लोगों को इस अभियान से जोड़ने का फैसला किया। 30 मई 1968 तक देश भर के कई आदिवासी समूह और पर्यावरण के रक्षक इस मुहिम से जुड़ गयें और देश भर में कई जगहों पर अलग अलग आंदोलन होने लगें। तब तक ये मुहिम छोटे छोटे मशालों की तरह अलग अलग जगहों पर जल रही थी। इसका असली ज्वाला बनना अभी बाकी थी।

जब चिंगारी बनी विरोध की महाज्वाला —

देश भर के उन सभी हिस्सों में जहां कहीं भी जंगल और वन थें वहां तलक इस अधिनियम के विरोध की बात पहुंच चुकी थी। लेकिन उस वक्त तक भी सब कुछ बेहद ही शांत था। लेकिन सन 1974 में वन विभाग ने जोशीमठ के रैणी गांव में स्थित 680 हेक्टेयर जंगल को एक ठेकेदार के हाथों नीलाम कर दिया। इस नीलामी का मुख्य उद्देश्य जंगल को काटकर मैदान में बदलना था। इसके लिए रैणी गांव के कुल 2459 पेड़ों को चिन्हीत किया गया था। जंगल के पेड़ों पर निशान लगाये जा चुके थें।

वनों में रहने वाले भी विभाग की मंशा को समझ चुके थें। वो इस बात से वाकिफ हो गये थें कि, जिन पेड़ो पर निशान लगाये जा चुके हैं उन्हें जल्द ही काट दिया जायेगा। वो समय भी आया जब लोगों को एकजुट होना था, 23 मार्च सन 1974 को गोपेश्वर में पेड़ों के कटान के विरोध में एक विशाल रैली का आयोजन किया गया। इस रैली का नेतृत्व एक महिला जिनका नाम ‘गौरा देवी’ था, उन्होनें किया।

वन विभाग ने चली चाल —

वन विभाग जगह जगह पर हो रहे रैलियों और विरोध प्रदर्शन से अवगत था। वो जानते थें कि, यदि अचानक से गांव में घुस कर पेड़ों की कटान शुरू की गयी तो उन्हें ग्रामिणों के कोप का भाजन बनना पड़ेगा। क्योंकि ये सर्वविदित है कि, वनों में रहने वालों की असल पूजी वन ही होती है। इसके लिए वन विभाग ने एक सुनियोजि चाल चली। विभाग की तरफ से पेड़ों के कटान के बाद ग्रामिणों को मिलने वाले मुआवजे की तारीख तय की गयी, वो तारीख थी 26 मार्च। विभाग की योजना के अनुसार मुआवजे का वितरण चमोली जिले से किया जाना था। विभाग इस बात से अवगत था कि, इस दिन गांव के सभी पुरूष चमोली में रहंगे और गांव में विरोध करने वाला कोई भी नहीं होगा।

जब महिलाओं ने संभाला मोर्चा —

‘गौरा देवी’

आज का ही दिन था 26 मार्च, वन विभाग ने अपनी योजना के अनुसार स्थानीय समाजिक कार्यकर्ताओं को एक वार्ता के लिए जिले पर बुला लिया था और मजदूरों के समूह को गांव की तरफ रवाना कर दिया था। एकमात्र लक्ष्य था चिन्हीत पेड़ों का कटान। लेकिन इसी बीच मजदूरों के आवागमन की जानकारी एक लड़की को लग गयी। उसने इस बात की सूचना तत्काल गांव के गौरा देवी को दी। गांव से सभी पुरूष चमोली जा चुके थें। पेड़ों की रक्षा करने वाला या फिर विभाग का विरोध करने वाला कोई भी रैणी गांव में नहीं था।

लेकिन गौरा देवी ने हिम्मत नहीं हारी उन्होनें गांव के सभी महिलाओं को एकत्र किया और पेड़ों की रक्षा की जिम्मेदारी अपने उपर ली। उन्होनें महिलाओं को इस बात के लिए राजी किया कि, चाहे कुछ भी हो जाये, हमारी जान ही क्यों न चली जाये लेकिन हम अपने जीते जी पेड़ों को कटने नहीं देंगे। बताया जाता है कि, उस वक्त गांव में महज 21 महिलायें और कुछ बच्चे ही मौजूद थें। उन सभी को लेकर गौरा देवी जंगल की तरफ निकल पड़ी। दूसरी ओर मजदूरों की टोली और विभाग के लोग जंगल पहुंच रहे थें।

इस दौरान गौरादेवी का सामना विभाग के लोगों से हुआ, विभाग के लोगों ने गौरा देवी को समझाने का प्रयास किया। लेकिन वो अपने फैसले पर अडिग रहीं, यहां तक कि, उन्हें डराया और धमकाया गया लेकिन उन्होनें अपना फैसला साफ तौर पर सुना दिया और जंगल के एक पेड़ से जाकर लिपट गयीं। उन्हें देखकर उनके साथ आयी हुई सभी महिलाएं एक एक करके चिन्हीत पेड़ों से ऐसे लिपटी जैसे एक बच्चा अपनी मां से, या मां अपने बच्चे से लिपट जाती है।

विभाग के लोगों को इस विरोध का अंदाजा भी नहीं था। वो तय नहीं कर पा रहे थें कि, आखिर पेड़ों को किस तरह काटा जाये। लाख प्रयास के बावजूद उन महिलाओं ने पेड़ों को नहीं छोड़ा और तब तक चिपकी रहीं जब तक विभाग के लोगों का हौसला नहीं टूट गया। आखिरकार वन विभाग, ठेकेदार और मजदूरों को बैरंग वापस लौटना पड़ा और यहीं से शुरूआत हुई उस महाज्वाला की जिसे दुनिया ‘चिपको आंदोलन’ के नाम से जानती है।

एक साधारण सी दिखने वाली महिला ‘गौरा देवी’ के हिम्मत के आगे मर्दों की टोली का बैरंग लौटना इस बात का पुख्ता सबूत था कि, ये विरोध जल्द ही आंदोलन में बदलने वाला था। ये खबर चारो तरफ फैल गयी और अलकनंदा से उठे विरोध के इस बुलंद आवाज ने नैनीताल, अल्मोडा हर जगह घर कर लिया।

बाद में टिहरी से सुंदरलाल बहुगुणा ने इस आंदोलन को हवा दी। उन्होनें जन समूह के साथ सन 1981 से 1983 तक 5000 किलोमीटर ट्रांस हिमालय पदयात्रा की। इतना ही नहीं, इस आंदोलन को उन्होनें भव्य रुप दिया और वो आमरण अनशन पर भी बैठें। उनकी मांग थी कि, इस इलाके में वनों की कटाई को रोक दिया जाये। लोगों के तमाम विरोध और आंदोलन के बाद आखिरकार सरकार को घुटने टेकने पड़े और सरकार ने अगले 20 वर्षों तक इस इलाके में पेडों की कटाई पर रोक लगा दिया।

‘चिपको आन्दोलन’ का घोषवाक्य —

क्या हैं जंगल के उपकार, मिट्टी, पानी और बयार।

मिट्टी, पानी और बयार, जिन्दा रहने के आधार।

सन 1987 में इस आन्दोलन को सम्यक जीविका पुरस्कार (Right Livelihood Award) से सम्मानित किया गया था।

रिलेटेड पोस्ट

टैक्नोलोजी

ऑटो

फोटो गैलरी

Trending

मासूम प्रद्युम्न की हत्या पर बनेगी फिल्म ‘तलवार 2’

आप भी खरीद सकेंगे फिल्म ‘रूस्तम’ की वर्दी, यहां लगेगी बोली

गरीब बच्चों की मदद के लिए यामी गौतम ने किया ऐसा काम

रेड रिवीलिंग गाउन पहनने पर ट्रोल हुईं मोनालिसा

शिल्पा शिंदे-सुनील ग्रोवर में हुई हाथापाई, वीडियो वायरल

TV एक्ट्रेस को मिला फराह खान के साथ कोरियोग्राफी का आॅफर

सड़क पर नाचने लगी यह एक्ट्रेस, वायरल हुआ Video

विक्रम भट्ट की ‘Twisted 2’ में निया शर्मा का शानदार लुक

कास्टिंग काउच: एक्ट्रेस ने किया खुलासा,जहां-तहां छुआ, फिर किस किया

उर्वशी रौतेला के नखरे की वजह से हुआ लाखों का नुकसान

बालकनी में फंसी ये एक्ट्रेस, फिर हुआ ये हाल

वरुण धवन को चोर समझ गार्ड ने पुलिस को किया कॉल

इस एक्ट्रेस ने सलमान के साथ बिताया वक्त, फिर डिलीट हुई फोटो

गर्लफ्रेंड के साथ शादी के बंधन में बंधे मिलिंद, वीडियो वायरल

इंटरनेशनल मैगजीन टाइम के टॉप 100 लिस्ट में दीपिका का नाम

मिलिंद और अंकिता आज करेंगे शादी, तैयारी की तस्वीरें वायरल

माधुरी और अनिल की जोड़ी 18 साल बाद मचाएगी धमाल

पूल में दिखा ये एक्टर, यूजर्स का कमेंट- बुढ़ापे में जवानी…

दिशा पटानी नहीं चाहती जो उन्होंने किया कोई और करे

video: अमिताभ की ‘102 नॉट आउट’ का नया सॉन्ग ‘बडुम्बा’

एक्ट्रेस का अनोखा मेकअप डांस, Video वायरल

ट्रोलर का कमेंट, एवरेज दिखती हो, कैसे बनी हीरोइन?

वायरल वीडियो

Viral video: सपना चौधरी के गाने पर थिरकते दिखे क्रिस गेल

करण जौहर और सारा अली का डांस वीड‍ियो Viral

video: इरफान खान की हॉलीवुड फिल्म ‘Puzzle’ का ट्रेलर रिलीज

खिलाड़ी को डांसिंग टिप्स देती जैकलीन का Video Viral

पिटबुल नस्ल के इस कुत्ते ने 3 पर किया हमला, VIDEO देख कांप जायेंगे

om prakash Sharma, bjp mla, east delhi, assault, police, ओम प्रकाश शर्मा, बीजेपी विधायक, प्रीत विहार, दिल्ली, पुलिस

BJP विधायक को महिला ने जड़ा थप्पड़, CCTV में कैद

video viral: क्वांटिको 3 में अलग अंदाज में दिखीं प्रियंका चोपड़ा

ज़रा हटके

OMG: इस महिला ने 87 हजार रूपये का ख़रीदा एक केला

सावधान: बच्चे के लंचबॉक्स से निकला जहरीला सांप

maharashtra, pune, roti, 20cm, divorce, महाराष्ट्र, पुणे, रोटी, 20 सेमी, तलाक,

रोटी का व्यास 20 सेमी न होने पर पति करता था पिटाई, कोर्ट पहुंची पत्नी

पाकिस्तान में खुला ‘थर्ड जेंडर’ के लिए स्कूल

एक अनूठी पहल, WhatsApp पर होगी अजान

ajab-gajab, argentina, अजब-गजब,अर्जेटीना

मौत के 500 साल बाद भी इस लड़की के शरीर से बह रहा है खून

ajab-gajab, china, अजब-गजब, चीन

इस देश में लड़कियां पैसे से खरीदती हैं बॉयफ्रेंड

aajab-gajab, somaliland, market of notes, अजब-गजब,सोमालीलैंड, नोटों का बाजार

इस देश में लगता है नोटों का बाजार

तलाक के 50 साल बाद शादी करेंगे ये कपल

aajab-gajab, england, अजब-गजब, इंंग्लैंड

लोग समझ रहे थे झोपड़ी, करोड़ों में बिका तो सामने आई सच्चाई

ajab-gajab, Japan, mirai shikodu, अजब-गजब, जापान, मिराई शिकोडू

जापान के इस रेस्टोरेंट में मिलता है फ्री का खाना

…इस मुस्लिम देश में महिलाओं के लिए लागू हुआ ड्रेस कोड

लाइफस्टाइल

dark chocolate eating benefits

डार्क चॉकलेट खाएं, वजन घटाएं

हर हाल में खुश रहने के ये हैं आसान TIPS

diabetes in kids symptoms and cure

बच्चों में ये बदलाव हैं डायबिटीज के लक्षण, यूं रखें ध्यान

tips for soft and pink lips

पिंक रहेंगे लिप्स, अपनाएं ये TIPS

मोटापा घटाने के ये हैं आसान टिप्स

गर्भावस्था में खाएं ये फल, होगा बहुत फायदा

मैजिकल है मटके का पानी, जानिए फायदे

बेल का शर्बत दिलाएगा गर्मी से निजात: रेसिपी

पढ़िए इरफान की बीमारी न्यूरो एंडोक्राइन ट्यूमर की डिटेल्स

शरीर के इन पांच जगहों को छूने से मोटापा होगा कम

संपादकीय

‘भारत बंद’ आंदोलन या फिर राजनीतिक साजिश

दलित आंदोलन: नेतृत्व विहीन, महज एक बेकाबू भीड़

मुख्य न्यायाधीश पर महाभियोग: निशाने पर अयोध्या!

रक्षा क्षेत्र में अत्मनिर्भरता की तरफ बढ़ता भारत

जानिए क्या है ‘चिपको आंदोलन’ जिसे आज गूगल भी कर रहा है याद

संविधान के आइनें में ‘राज्यसभा’

चीनी कर्ज के शिकंजे में फंसते छोटे देश

समर्थन वापसी के पीछे TDP का निहितार्थ

राफेल की उड़ान के साथ बढ़ती मित्रता

फ्रांस के साथ भारत की बढ़ती सामरिक भागीदारी

जानिए कौन थें पेरियार, जिन्होनें आजीवन किया ब्राम्हणों का विरोध

आतंकवाद पर पिटता पाकिस्तान

नरेंद्र मोदी और अटल बिहारी का ये दुर्लभ VIDEO जरूर देखना चाहिए

थप्पड़ कांड: तो क्या साजिश के तहत मुख्य सचिव को बुलाया गया था

शर्मनाक: किसी बेगाने की तरह देश में घूम रहे कनाडाई पीएम

यूपी: कहीं नीरव मोदी की तरह ‘कोठारी’ न लगा दें करोड़ों की चपत

जल्द ही आपकी रसोई से गायब हो जायेगा LPG सिलेंडर

आज ही के दिन दहला था ‘गुजरात’, चली गई थी हजारों की जान

Netaji subhash Chandra bose, subhash Chandra bose death, subhash Chandra bose birthday, subhash Chandra bose gold, missing 80kg gold,rahish khan, सुभाष चंद्र बोस, सुभाष चंद्र बोस मृत्यु, नेताज जन्मदिन, बोस का खजाना, रईस खान

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के खजाने का रहस्य?

क्या संविधान से बढ़कर है करणी सेना ?

मनोरंजन

आप भी खरीद सकेंगे फिल्म ‘रूस्तम’ की वर्दी, यहां लगेगी बोली

हिना खान के गांव की बहू लुक पर यूजरर्स ने कहा, कामवाली बाई

अनुपम बना रहे थे वीडियो, मां बोली- ‘जब इसको नहीं शर्म तो मुझे…

रेड रिवीलिंग गाउन पहनने पर ट्रोल हुईं मोनालिसा

कश्मीर की वादियों में अलग-अलग अंदाज में नजर आए जैकलीन और सलमान

गरीब बच्चों की मदद के लिए यामी गौतम ने किया ऐसा काम

शिल्पा शिंदे-सुनील ग्रोवर में हुई हाथापाई, वीडियो वायरल

करीना और सोनम की Veere Di Wedding का ट्रेलर रिलीज

सड़क पर नाचने लगी यह एक्ट्रेस, वायरल हुआ Video

कास्टिंग काउच: एक्ट्रेस ने किया खुलासा,जहां-तहां छुआ, फिर किस किया

सरोज खान के बयान पर एक्ट्रेसेस ने ऐसे निकाला गुस्सा

‘संजू’ को बनाने का अनुभव सबसे अलग: राजकुमार हिरानी

विक्रम भट्ट की ‘Twisted 2’ में निया शर्मा का शानदार लुक

टीवी शो के सेट पर लगी आग, लीड स्टार्स का जला चेहरा

ट्रोलिंग के मुद्दे पर स्वरा ने RSS-बीजेपी को लिया निशाने पर

उर्वशी रौतेला के नखरे की वजह से हुआ लाखों का नुकसान

ब्वॉयफ्रेंड ने वीडियो कॉल में दिखाया जूता, सोनम हुईं नाराज

वरुण धवन को चोर समझ गार्ड ने पुलिस को किया कॉल

सुभाष घई ने बताया संजय दत्त की बायोपिक का नाम

बालकनी में फंसी ये एक्ट्रेस, फिर हुआ ये हाल

“रेस 3” की शूटिंग के लिए जैकलीन के साथ सलमान पहुंचे श्रीनगर

दत्त बायोपिक का टीज़र 24 अप्रैल को होगा रिलीज

Viral video: सपना चौधरी के गाने पर थिरकते दिखे क्रिस गेल

अमिताभ की आलोचना पर फंसी पूजा भट्ट, ट्रोलर ने बोला ‘शराबी’

संपादकों की पसंद

भाई ने बहन का नहाते हुए बनाया VIDEO और करता रहा रेप

kerala, malayalam actress, sanusha santosh, maveli express, thiruvananthapuram, sanusha santosh,s molested, केरल,मलयालम अभिनेत्री, सानुशा संतोष,मावेली एक्सप्रेस, तिरुवनंतपुरम

ट्रेन में चिल्लाती रही एक्ट्रेस, होठों को रगड़ता रहा शख्स

Radhika apte, Padman promotion, period, Radhika apte first period, party, bollywood, actress Radhika apte, Padman, akshay kumar, राधिका आप्टे, पैडमैन, पीरियड, बॉलीवुड

..जब पहली बार इस एक्ट्रेस को पीरियड आया तो घर में मना जश्न

महज 630 रूपये में खरीदें 20 हजार वाला Lenovo Z2 Plus

इस स्मार्टफोन पर Jio दे रहा फ्री में 30GB इंटरनेट

Close