रजनीकांत के सामने कमल हासन का पार्टी बनाना कितना सफल होगा

  By : Team Khabare | January 17, 2018

अश्विनी ‘सत्यदेव’

चेन्नई। दक्षिण भारत के सियासत में सिनेमा के धुरंधरों के जोर आजमाइश की प्रथा तो बहुत पुरानी रही है, जिसमें तेलगु स्टॉर मरहूम नंदमुरी तारक रामा रॉव (एनटीआर )से लेकर तमिल स्टॉर मरूदूर गोपालन रामचन्द्रन (एमजीआर ) तक के नाम शुमार है। अभिनेता से नेता बनने की इस दौड़ में हाल ही में रजनीकांत का नाम जुड़ा और उन्होनें अपनी पार्टी की घोषण की थी। अब तमिलनाडु की सियासत में दिवंगत जयललिता का विरोध झेल चुके कमल हासन भी भाग्य आजमाने उतरने जा रहे है, बहुत जल्द कमल हासन भी अपनी नई पार्टी की घोषणा करेंगे।

तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की मौत के बाद तमिलनाडु की सियासत में एक बड़ी जगह खाली हो गई है। इस खाली जगह पर काबिज होने के लिए जयललिता जैसी ही बड़ी शख्सियत की जरूरत है। ऐसे में रजनीकांत जिसे पुरा दक्षिण भारत किसी भगवान से कम नहीं मानता है उनका राजनीति में प्रवेश करना इस बात की तरफ साफ संकेत है कि वो जल्द से जल्द से राजनीति में उस जायज मुकाम को हासिल करना चाहते हैं।

हालांकि, रजनीकांत ने जब पार्टी की घोषणा की थी, तो उन्होनें वर्तमान सियासी हालातों का हवाला देते हुए कहा था कि, ये वर्तमान स्थितियों की मांग है इसलिए वो राजनीति में प्रवेश कर रहे हैं। वहीं रजनीकांत के करीबी दोस्त माने जाने वाले कमल हासन ने भी अपने सियासी आगाज का मन बना लिया है।

कमल हासन करेंगे पार्टी की घोषणा:

 

कमल हासन भी अपने राजनीतिक कैरियर की शुरूआत का मन बना चुके हैं, और बताया जा रहा है कि, वो आगामी 21 फरवरी को अपने राजनीतिक पार्टी के नाम की घोषणा करेंगे। इसी दिन कमल पूरे राज्य में भव्य दौरा भी करेंगे ताकि लोगों तक पार्टी के नाम की गूंज पहुंचाई जा सके। इस बात का खुलासा कमल हासन ने एक तमिल पत्रिका से की गई बात चीत में कहा है।

कमल हासन अपने सियासी सफर का आगाज अपने गृह जनपद से करते हुए मदुरई, डिंडीगुल और सिंवगंगई की तरफ बढ़ेंगे। कमल हासन का ये दौरान कितना भव्य होगा ये उनके समर्थकों और प्रशंसकों की भीड़ पर निर्भर करेगा। लेकिन एक बात तो साफ है कि, दक्षिण सिनेमा के इन दो दिग्गजों के राजनीतिक पर्दापण से तमिलनाडु की सियासत में एक बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा।

कमल हासन ने भी इस बात को साफ किया है कि, वो राजनीति में इसलिए आ रहे हैं ताकि राज्य के समस्याओं को दूर किया जा सके। उन्होनें ये भी कहा कि, जिन लोगों ने उन्हें पार्टी के निर्माण के लिए चंदे के रूप में पैसा दिया था उनके पैसे को वापस कर दिया गया है। कमल का कहना है कि, पहले वो राज्य का दौरा करेंगे और लोगों का मिजाज समझेंगे। इसके बाद ही पार्टी का नाम तय किया जायेगा। पार्टी का नाम तय होने के बाद ही चंदे के रूप में पैसे लिये जायेंगे।

सिनेमा के 70 एमएम के पर्दे पर तो दशकों से इन दोनों दिग्गज अभिनेताओं ने तालियां और सीटियां बटोरी है अब उम्र के इस दूसरे पडाव में इनका राजनीति में प्रवेश कितना सफल होगा ये ​तो फिलहाल वक्त ही मुठ्ठी में कैद है, लेकिन ये देखना दिलचस्प होगा कि, कभी एक दूसरे के लिए हर मौके पर एक साथ मंच साझा करने वाले रजनीकांत और कमल हासन आखिर किन मुद्दों पर अपने पा​र्टी को भिन्न बतायेंगे। हालांकि कमल के राजनीति में प्रवेश का रजनीकांत ने स्वागत किया है और उन्हें शुभकामनाएं भी दी है।