GST इफेक्ट: प्राइवेट कर्मचारियों के सैलरी पैकेज में होगा बदलाव

  By : Shubham Srivastawa | April 16, 2018 5:00 pm

नई दिल्ली। जल्द ही आपकी सैलरी पर जीएसटी का असर दिखने वाला है। एक रिपोर्ट से मिली जानकारी के अनुसार देशभर की तमाम कंपनियां अपने कर्मचारियों के सैलरी पैकेज में बड़े बदलाव करने की तैयारी कर रही है। रिपोर्ट में बताया गया है कि कंपनियों को कर्मचारियों के कंपनसेशन पैकेज या ह्यूमन रिसॉर्स बेनिफिट्स में बदलाव करने पड़ सकते हैं ताकि जीएसटी का असर कंपनी पर न पड़कर कर्मचारियों पर पड़े।

जिससे हाउस रेंट, मोबाइल और टेलिफोन बिल, हेल्थ इंश्योरेंस, मेडिकल बिल, ट्रांस्पोर्टेशन को दोबारा जारी करने पर भी कंपनियों को जीएसटी चुकाना पड़ सकता है। वहीँ कुछ विशेषज्ञों ने कंपनियों को सलाह दी कि वो अपने एचआर विभाग से इन मामलों पर गहनता से समीक्षा करें। हल ही में आये एएआर ने फैसला दिया था कि कर्मचारी से लिए गए कैंटीन चार्जेज पर कंपनियों को जीएसटी चुकाना होगा।

हालांकि, कंपनियां पहले कर्मचारी को कॉस्ट टू कंपनी के आधार पर सैलरी पैकेज तैयार करती थी और कई सेवाओं के ऐवज में कटौती को सैलरी का हिस्सा बनाकर दिया जाता है। यदि अब इसे जीएसटी के दायरे में लाया जाता है तो, कंपनियां किसी कर्मचारी की कॉस्ट टू कंपनी को ही आधार रखते हुए उसके ब्रेकअप में बदलाव करेंगी।

रिफंड फोर्टनाइट का नहीं दिखा असर

बता दें कि सरकार के द्वारा कारोबारियों के अटके रिफंड को क्लियर कराने के लिए ‘रिफंड फोर्टनाइट नाम की एक मुहीम चलाई गई। हालांकि, इसका असर तो दखने को मिला लेकिन, देश के कई हिस्‍सों में इसका फायदा नहीं पहुंच सका है और छोटे शहरों के कारोबारी अभी भी रिफंड क्लियर होने का इंतजार कर रहे हैं।