साल का दूसरा सूर्यग्रहण 13 जुलाई को, जानें इसका प्रभाव

  By : Bankatesh Kumar | July 9, 2018
solar eclipse, July 13 solar eclipse, pregnant women, impact,सूर्यग्रहण ,13 जुलाई सूर्यग्रहण, गर्भवती महिलाएं, असर

नई दिल्ली। 13 जुलाई को सदी का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण पड़ने से पहले सूर्यग्रहण होगा। यह साल का दूसरा सूर्यग्रहण है। भारतीय समयानुसार सूर्यग्रहण सुबह 7 बजकर 18 मिनट शुरू होगा, जो कि सुबह 8 बजकर 13 मिनट तक रहेगा। ग्रहण का माध्यम काल सुबह 8 बजकर 13 मिनट पर होगा और मोक्ष 9 बजकर 43 मिनट पर होगा। ज्योतिष शास्त्रियों का कहना है कि यह सूर्यग्रहण कुछ राशिवालों के लिए बुरी खबर लेकर आ सकता है। क्योंकि यह सूर्यग्रहण पुनर्वसु नक्षत्र और हर्षण योग में होगा। ऐसे में गर्भवती महिलाओं को सूर्यग्रहण के असर से बचने के लिए कुछ बातों पर ध्यान रखना होगा।

बता दें कि यह ग्रहण भारत में उतना प्रभावी नहीं होगा जितना विदेशों में। लेकिन इसके बावजूद भी गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी बरतनी होगी। पुराणों की मानें तो जब यह घटना घटती है तो ढेर सारी ऊर्जा का हनन होता है। इस दौरान नकारात्मक शक्तियां प्रबल होती हैं, जिससे गर्भ में पल रहे शिशु को नुकसान पहुंच सकता है। इस कारणवश गर्भपात की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है। इस दिन गर्भवती महिला को सूर्यग्रहण न देखने की सलाह है। सूर्य ग्रहण के समय गर्भवती महिला खाना खाती है तो उसके भोजन पर ग्रहण लग जाता है।

ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को किसी भी धारदार कैंची या चाकू को नहीं छूना चाहिए। साथ ही कपड़े भी नहीं सिलने चाहिए। इसके पीछे यह मान्यता है कि ऐसा करने से पेट में पल रहे शिशु के अंग कट जाते हैं या फिर जुड़ जाते हैं। वहीं धार्मिक जानकारों का कहना है कि यह ग्रहण कर्क लग्न और मिथुन राशि में पड़ेगा। इसमें सूर्य और चंद्र दोनों मिथुन राशि में रहेंगे और लग्न में बुध और राहु रहेंगे। वहीं सूर्य और चंद्र के एक साथ एक ही राशि में रहने से कर्क, मिथुन और सिंह राशि वालों को मानसिक कष्ट भी हो सकता है।